Bahrapan/बहरापन

Image credit : Google Click here to read part 1 बहरी हो गयी क्या सरकार, दिखती क्यों ना अत्याचार, आ हम ध्वनियन्त्र लगा दें चल कर संसद पर, कितना दर्द हमें चल उन्हें दिखा दें संसद पर || एसी कार में नेतागण, चलते करके सीसा बंद, महल जहां पर उनकी होती, लाउडस्पीकर पर पाबन्द, चल […]

Posted in Dharm-Parampra, UncategorizedTagged 7 Comments on Bahrapan/बहरापन

Dhwani Pradhshan/ध्वनि प्रदूषण

Image credit: Google धर्मांध में देखो शोर बढ़ा, ध्वनि राक्षस चहुँओर बढ़ा, अब और न इंसाँ खुद का कब्र बना रे, आ मंदिर,मस्जिद,चर्च और गुरुद्वारे, सब धर्मस्थल से ध्वनि यंत्र हटा रे।। क्यों अंधा बना जहान, बनाता जन्नत को श्मशान, जोड़ हर बस्तु को धर्मो से, लड़ता है सारा इंसान, बस अब और न बहरा […]

Posted in Dharm-Parampra, UncategorizedTagged 25 Comments on Dhwani Pradhshan/ध्वनि प्रदूषण