“Every successful women”

महाभारत का युद्ध आसान था शायद,आसान था कल,मर्यादित रावण सेटकरा जाना,परन्तु आसान नही यहाँ नारियों का,ख्वाहिशों के पंख लगा अम्बर को छू पाना,जहाँ अब भी निराशाओं के बादलजलजला बन डूबाने को आतुरख्वाबों की नैया,जहाँ अपनों के ताने,दावानल बन झुलसाने को ततपरअरमानों की मड़ैया,जहाँ समाज का लोक-लाज,बन चट्टान ततपर रोकने को राह,जहाँ भीतर अपनों का अवरोध,बाहर […]

Posted in Hindi Poem, NariyanTagged , 18 Comments on “Every successful women”

PREM BHAYEE BAHAN KA/प्रेम भाई बहन का।

भागो जितना भाग सको तुम,मुश्किल प्रेम को नाप सको तुम,भागो हमसे दूर कहीं मैं अम्बर तक आ जाऊँगी,मैं चुड़ैल सब तेरी बलाय,नोच-नोच खा जाऊँगी।हर अस्त्रों में महाशस्त्र ये,क्यों ना कच्चे धागे ये,हँसी-खुशी और नोक-झोंक के,रिस्ते सच्चे प्यारे ये,बहना का भाई है गहना,इस रिश्ते बिन मुश्किल रहना,इन रिश्तों के लिए तेरे बीवी से भी टकराउंगी,मैं चुड़ैल […]

Posted in Festivals, Hindi PoemTagged 21 Comments on PREM BHAYEE BAHAN KA/प्रेम भाई बहन का।

SANTAAN/सन्तान

एक पूरब दूसरा पश्चिम,जिन्हें बाँध रखा,अपनी दोनों भुजाओं में,मैं  वो आपकाजादुई सामान हूँ,कहने को आपका छोटा बच्चा,जिसके दोनों गालों को पकड़ प्रेम से कहते,कबाब में हड्डी,मगर मैं ही आपदोनो का सारा जहान हूँ।मैंने मुस्कुराना सीखा,आपदोनो को हँसते मुस्कुराते देखकर,मैंने बोलना,गुनगुनाना सीखा,आपदोनो को बोलते,गुनगुनाते देखकर,मैं जीना सीख रहा,आपको जीवन जीते देखकर।मैं प्रतिफल हूँ,आपदोनो के प्रेम का,जो […]

Posted in Jiwan dharaTagged , 28 Comments on SANTAAN/सन्तान

Khwahish/ख्वाहिश

हमारे एक प्रिय ब्लॉगर Padmaja ramesh जी की रचना से प्रभावित होकर लिखी गई रचना– विस्मृत ना होती यादें और पल गुजरे वापस आ आते,काश कि हम बच्चे बन जाते,काश कि हम बच्चे बन जाते।है ख्वाहिश फिर से पढ़ने की,यारों संग मस्ती करने की,था नही बदलना कुछ विशेष,करते जो छूट गया है शेष,नाना,नानी का सत्य […]

Posted in Hindi Poem, Jiwan DarpanTagged , 22 Comments on Khwahish/ख्वाहिश